Stories in Hindi for Kids-बाघ का लालच। रोचक कहानी।

    Stories in Hindi for Kids

    Stories in Hindi for Kids-बाघ का लालच।

    Stories in Hindi for Kids-बाघ का लालच। रोचक कहानी। ये एक बाघ और एक हिरन की बहुत ही सुन्दर सी कहानी है जिसमे बाघ हिरन को खाने के लिए एक कहानी बनता है और हिरन कैसे उससे बचता है जानने के लिए पूरी कहानी “Stories in Hindi for Kids-बाघ का लालच। रोचक कहानी।” ज़रूर पड़ें ।

    Stories in Hindi for Kids

    Stories in Hindi for Kids-बाघ का लालच।

    एक बार एक मादा हिरन जिसके पैट मे एक बच्चा था घांस के मैदानों मे चर रही थी। वो बहुत खुश थी और सोचती थी मे कुछ ही समय के बाद माँ बन जाउंगी मेरा बच्चा बहुत शैतानियां करेगा में भी उसके साथ खूब खेलूंगी। उसको स्वस्थ रखूंगी और खूब दूध पिलाऊंगी इसलिए मेरा घांस चरना बेहद ज़रूरी है।

    वो घांस चरते हुए पहाड़ी इलाके तक पहुंच गई। जहाँ उसने एक बाघ के बच्चे को उदास बैठे देखा। पहले तो वो दर गई और सोचने लगी ये मे कहाँ आ गई अगर इसकी माँ आ गई तो वो मुझे खा जाएगी और इसतरह मे कभी माँ नहीं बन पाऊँगी। ये सोच कर वो छिप गई।

    काफी देर बाद भी बाघ की माँ नहीं आई तो उसे यकीन हो गया ज़रूर किसी शिकारी ने उसे मार दिया होगा। अब वो और उसका होने वाला बच्चा सेफ है। वो वहां से चल दी।

    बाघ का बच्चा अकेला था और बहुत उदास था उसे अपनी माँ का इंतज़ार था। मादा हिरन ने सोचा अगर ये बच्चा ऐसे ही अकेला रहा तो कोई शिकारी जानवर उसे खा जाएगा और किसी माँ का बेटा मारा जाएगा। मैं भी माँ बनने वाली हूँ और ये मैं कैसे होने दे सकती हूँ।

    मादा हिरन वापस आई और बाघ के बच्चे को अपने साथ ही रखने का फैसला किया कुछ ही दिनों मैं मादा हिरन ने एक बेटे हो जनम दिया।

    बाघ अब बड़ा हो चूका था और उसे मॉस खाने इच्छा होने लगी थी। इसलिए वो छिप कर छोटे मोठे शिकार करने लगा। कुछ समय के बाद मादा हिरन मर गई और दोनों ही अकेले रह गए।

    बाघ को जैसे इसी दिन का इंतज़ार था। वो हिरन का मॉस खाना चाहता था किन्तु एक हिरन ने ही उसे पाला था तो उसे बदनामी का बहुत दर था।

    वो अपने भाई हिरन का शिकार करके खाना चाहता था इसलिए वो तहर तरह के प्लान बनाया करता था। एक दिन उसने एक तरकीब सोची और अपने भाई हिरन के पास गया और कहने लगा।

    “मेने आज एक सपना देखा है के मैं तुम्हें खा रहा हूँ मेने तुम्हारा शिकार किया है। मुझे मेरे सपने का मान रखना होगा वरना मेरे सपने का देवता नाराज़ हो जाएगा और मुझे मजबूरन तुम्हे खाना ही पड़ेगा।”

    हिरन ने कहा “तुम मेरे भाई हो मेरी माँ ने तुम्हे पाला है तुम ऐसा नहीं कर सकते”

    “हाँ और इसी लिए तुम्हे खाते हुए मुझे बहुत दुःख होगा कोई आखरी इच्छा हो तो मुझे बता दो” बाघ ने जवाब दिया।

    हिरन समझ गया वो उसके चंगुल मैं फस चूका है। उसने कुछ सोचा और कहा “वो सिर्फ एक सपना था कोई भगवान ऐसे नाराज़ नहीं होता”

    बाघ ने कहा “नहीं मेरे प्यारे भाई वो सिर्फ एक सपना नहीं बल्कि देवता का हुक्म था जो मुझे पूरा करना है वरना मैं पापी हो जाऊंगा”

    “अच्छा रुको हम तीन जानवरों से सलाह लेंगे जो वो कहेंगे वही किया जाएगा” हिरन ने कहा तो बाघ मान गया।

    वो पहले बिल्ली के पास गए तो बिल्ली ने बाघ की पक्छ मैं फैसला सुनाया जिससे बाघ खुश हो गया। फिर वो लोमड़ी के पास गए तो उसने भी बाघ के पक्छ मैं ही फैसला सुनाया।

    “तीन मैं से दो ने मेरे पक्छ मैं बात करी है। अब तीसरे के पास जाने का कोई भी फायदा नहीं है। तुम तैयार हो जाओ मैं तुम्हे खाने वाला हूँ” बाघ ने कहा।

    “रुको मेरी अंतिम इच्छा है हम तीसरे से भी बात करेंगे” हिरन ने सोचा शायद कुछ और देर ज़िंदा रहा जाए

    दोनों एक चमगादड़ के पास गए और सारा माजरा बताया। चमगादड़ समझदार था वो समझ गया ये बाघ की चाल है। वो हिरन को खाना चाहता है और झूटी कहानी बना रहा है।

    उसने कहा “तुम्हारी समस्या बहुत ही जटिल है इसे केवल महाराज ही सुलझा सकते है चलो उनके पास चलते हैं।”

    तीनो महाराज के पास पहुंच गए। दरबार मैं महाराज को सारी बात बताई, महाराज ने कहा “इसका फैसला हम भोजन के बाद करेंगे।”

    महाराज अभी भोजन कर ही रहे थे के चमगादड़ धड़ाम से ज़मीन पर गिरा और ज़ोर की ठहाके मारने लगा। तो महाराज नाराज़ हो गए।

    चमगादड़ ने कहा “मुझे माफ करें महाराज ऊपर मेरी आँख लग गई थी और मेने सपना देखा के मेरा विवाह राजकुमारी के साथ हुआ है तो ख़ुशी के मारे मैं गिर गया। मैं छमाप्रार्थी हूँ।”

    महाराज ने कहा “वो सिर्फ एक सपना था वरना तुम्हे राजकुमारी से विवाह का विचार पर भी सूली पर लटका दिया जाता”

    उसने कहा “आपकी दया का मैं बहुत आभारी हूँ महाराज बिलकुल ऐसा ही ये बाघ भी कर रहा है एक सपने की वजह से भोले भाले हिरन को खाना चाहता है। आप इसके साथ उचित न्याय करेंगे मुझे पूरा यकीन है महाराज।”

    महाराज ने कहा “बाघ चाल कर रहा है इसे इस हिरन से दूर जंगल मैं छोड़ दिया जाए जहा से ये कभी वापस ही न आ सके जिससे हिरन की सुरक्छा हो सके”

    निष्कर्ष:

    Stories in Hindi for Kids-बाघ का लालच। रोचक कहानी। दिमाग का प्रयोग किया जाए तो स्तिथि किसी भी हो समस्या का समाधान हो सकता है।

    Khatmal Aur Bechari Joo Panchtantra Story Hind

    Sheikh Chilli ki Kahani-शेखचिल्ली की स्टोरी

    New moral stories in Hindi 2021 Top 10 moral stories in Hindi

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *