Best Moral Short stories for Kids»नैतिक कहानियां। 2021

Moral Short stories for Kids

Moral Short stories for Kids

बच्चों के लिए सबसे अच्छी प्रेरणादायक नैतिक कहानियां।

बच्चों के लिए (Moral Short stories for Kids ) विचारशील कहानियों के द्वारा दिए किए गए मूल्य, विश्वास और नैतिकता हमारे बच्चों के व्यक्तित्व की नींव होती हैं। इसलिए बच्चों को अच्छी तरह से प्रशिक्षित करने के लिए नैतिकता के साथ इन छोटी कहानियों को पड़ना बहुत महत्वपूर्ण है।

Moral Short stories for Kids हमारे बच्चों को सही और गलत के बीच अंतर सिखाने का एक बहुत ही बेहतरीन तरीका हैं। इसके आलावा Moral Short stories for Kids बच्चों में बुनियादी नैतिकता और व्यवहार की एक सामान्य समझ हासिल करने में उनकी मदद करते हैं।

बच्चों के रूप में, हम हम सब बहुत साडी कहानियां जैसे पंचतंत्र की कहानियों, अमर चित्र कथा के साथ-साथ जातक कथाओं को पढ़ते और सुनते हुए बड़े हुए हैं।

Moral Short stories for Kids

हमने कुछ Moral Short stories for KIDS चुन कर निकली हैं जो आपको बहुत पसंद आएंगी जिनमे नैतिकता भी हे और मनोरंजन भी।

मेहनत का फल छोटी कहानी

गधे की बेबकूफी Moral Short stories for Kids

(Moral Short stories for Kids) एक बार एक जंगल के छोटे से हिस्से में एक गधा रहता था जहाँ सही से घास भी नहीं उगती थी। गधा भूखा ही रहता था और कमज़ोर हो गया था जिससे वो हमेशा उदास रहता था। एक बार उसके इलाके में एक सियार आया सियार बहुत समघदार था। सियार भी जंगल में अकेला ही रहता था।

गधा उसके पास आया और बोला ” तुम कहाँ से आए हो” सियार ने जवाब दिया “मैं पास ही के इलाके से आया हूँ खाने की तलाश में इस बार बहुत सूखा पड़ा हे खाने को कुछ भी नहीं हे।”

उसने आगे कहा “और मेरे कोई दोस्त या साथी भी नहीं हे वरना में उसके साथ कही दूर खाने के तलाश में जाता”

गधे में कहा “मेरे साथ भी कुछ ऐसा ही हे मेरे भी कोई दोस्त नहीं हे और में भी भूखा ही रहता हूँ देखो मैं कितना कमज़ोर हो गया हूँ”

सियार ने गधे को कहा “क्यों न हम दोनों दोस्ती कर लें, मैं पास के गांव में एक खेत का रास्ता जनता हूँ जहाँ ककड़ी और खीरे की खेती होती हे। दोनों रात को चला करेंगे और खूब खाएंगे में अकेला वहां जाने से डरता हूँ”

गधे को उसका ये सुघाव बहुत पसंद आया अब वो रोज़ रात को उस खेत में जाते और खूब खाते जिससे गधा खूब मोटा हो गया एक बार जब वो उस खेत में खीरे खा रहे थे तभी एक आहत सुनाई दी और सियार ने कहा “निकलो यहाँ से वरना पकडे जा सकते हे”

दोनों भाग कर वापस आ गए। गधा बहुत खुश हुआ और गधे ने कहा में एक गीत गाना चाहता हूँ और उसने रेकना शुरू कर दिया। सियार ने कहा “भाई तुम्हारी आवाज़ बहुत बुरी हे तुम गीत न गाओ” गधे ने जवाब दिया “तुम गीत नहीं गा सकते इसलिए तुम्हे जलन हो रही हे और तुम मुझे रोक रहे हो”

अगली रात फिर दोनों उसी खेत में गए और खूब खाया सियार ने कहा “अब हमारा पेट भर गया हे चलो चलते हैं।” गधे ने कहा “नहीं आज में बहुत खुश हूँ में एक गीत गाना चाहता हूँ” सियार ने कहा “नहीं भाई ये गीत गाने का सही समय और सही स्थान नहीं हे हम फस सकते हैं”

गधे ने कहा “हम इतने दिनों से यहाँ खा रहे हैं आज तक नहीं फसे तुम मुझे डराओ नहीं और तुम मुझसे जलते हो तुम मेरे जैसा सुरीला नहीं गा सकते मुझे मत रोको में गीत गाना चाहता हूँ।”

सियार समझ गया गधा नहीं मानेगा तो सियार ने कहा “ठीक हे थोड़ा रुको में इस खेत से बहार चला जाऊं फिर गा लेना गीत, और तुम भी वहीँ आ जाना में तुम्हारा इंतज़ार कर रहा हूँ”

सियार के जाते ही गधे ने रेकना हुरु कर दिया। उसकी बेसुरी आवाज़ से खेत के मालिक की आँख खुल गई मालिक ने सोचा मेरे खेत में कुछ गधे घुस आए हैं। उसने एक बड़ा सा डंडा उठाया और गधे को मरना शुरू कर दिया। गधा बुरी तरह से पिट कर घायल हो गया था।

अब उसे किसी की सलाह न मानने के नतीजे का सबक मिल चूका था वो किसे तरह सियार के पास पंहुचा और सियार से माफी मांगी।

MORAL:-

हमेशा दूसरों की सलाह पर विचार करना चाहिए और ज़िद नहीं करना चाहिए।

गरीब मज़दूर और रहस्मई परियां।

बंदर और मगरमछ की दोस्ती Moral Short stories for Kids

Hindi Short Stories for Kids

(Moral Short stories for Kids) एक समय की बात हे एक बन्दर और एक मगरमछ बहुत अच्छे दोस्त थे। बन्दर नदी किनारे एक जामुन के पेड़ पर रहता और मगरमछ नदी में रहता था। जब भी मगरमछ बन्दर से मिलने आता तो बन्दर अपने दोस्त मगरमछ को मीठे जामुन तोड़ कर देता मगरमछ जामुन खा कर बहुत खुश होता और बन्दर का आभार प्रकट करता।

एक दिन जब मगरमछ अपने दोस्त बन्दर से मिलने जा रहा था तो मगरमछ की पत्नी ने पूछा तुम रोज़ बन्दर से मिलने जाते हो ऐसा किया हे उसके पास मगरमछ ने जवाब दिया मरा दोस्त मुघे मीठे जामुन खिलता हे। उसकी पत्नी ने कहा आज मेरे लिए भी कुछ जामुन ले कर आना में भी खा कर देखूंगी वो कितने स्वादिष्ट हैं।

मगरमछ खुसी से बन्दर के पास गया और बताया के आज उसकी पत्नी भी जामुन खाना चाहती हैं बन्दर ने पेड़ के सबसे अच्छे जामुन तोड़ कर मगरमछ को दिए और कहा “आपकी पत्नी के लिए मेरी तरफ से तोहफा” वो बहुत ही उत्सुकता से वापस आया और जामुन अपनी पत्नी को दिए।

जब उसकी पत्नी ने जामुन खाए तो उसने सोचा जामुन तो बहुत ही मीठे हैं अगर बन्दर रोज़ ही ऐसे जामुन खता हे तो बन्दर का दिल कितना मीठा होगा। उसने मगरमछ से कहा

“जामुन तो बहुत मीठे हे अगर बन्दर ऐसे जामुन खता हे तो उस बन्दर का दिल भी बहुत मीठा और स्वादिष्ट होगा में उस बन्दर का दिल खाना चाहती हूँ अगर कल तुम उस बंदत को साथ ले कर नहीं आए तो में तुम्हारा साथ छोड़ दूंगी और कहीं और चली जाउंगी।”

ये सुन कर मगरमछ बहुत उदास हो गया। अगले दिन मगरमछ जब बन्दर के पास आया तो उसने बताया के उसके दिए हुए जामुन बहुत ही मीठे थे उसकी पत्नी बहुत खुश हुई अब उसने तुम्हे खाने पर बुलाया हे और तुम्हारे लिए बहुत ही स्वादिष्ट खाना बनाया हैं।

बन्दर उसके घर जाने के लिए मगरमछ की पीठ पर बैठ गया रस्ते में बन्दर ने देखा के मगरमछ तो बहुत उदास हैं। बन्दर ने कहा में तुम जैसा दोस्त पा कर बहुत खुश हूँ पर आज तुम थोड़ा उदास नज़र आ रहे हो क्या बात है?

मगरमछ ने सारीबात बता दी, बन्दर बहुत चालक था उसने कहा दोस्त इतनी सी बात है और तुम उदास हो मुघे अच्छा नहीं लग रहा मैं अपना दिल आपकी पत्नी को देने को तैयार हूँ किन्तु तुम्हे पहले बताना चाहिए था।

मैं अपना दिल तो उसी पेड़ पर छोड़ कर आ गया हूँ। अब तुम्हें वापस चलना होगा। मगरमछ वापस किनारे पर पहुंच गया। बन्दर तेज़ी से पेड़ पर चढ़ गया और पानी जान बचाई। बन्दर ने कहा तुम बहुत मुर्ख हो तुमने नहीं सोचा दिल कोई कैसे पेड़ पर छोड़ सकता है आज से मेरी तुम्हारी दोस्ती ख़तम।

Manoranjak Kahaniyan in Hindi दिलचस्प कहानियां

आप कार्य करने से पहले सोचें। Moral Short stories for Kids

(Moral Short stories for Kids) एक कौआ जो बहुत प्यासा था, पानी की तलाश में चारों ओर उड़ गया। उसने पानी की तलाश में नजदीक और दूर तक पानी की तलाश की, लेकिन वह कहीं भी पानी खोजने में सफल न रहा।

उसकी प्यास लगातार बढ़ती ही जारही थी, घंटों की कठिन खोज के बाद आखिरकार उसे एक घड़े में थोड़ा पानी मिला। हालाँकि, उसका जल स्तर बहुत कम था और उसकी चोंच पानी तक नहीं पहुँच सकी। वो बहुत उदास हुआ अब वो और अधिक उड़न नहीं भर सकता था वो बहुत थक गया था।

उसने घड़े को नीचे धकेलने की कोशिश की, लेकिन घड़ा उसके लिए बहुत भारी था। कौआ बहुत निराश हुआ उसे लगा के अब उसका अख्ति वक़्त आ गया हे और वो मरने वाला है। वह पानी की तलाश में कहीं और उड़ान भरने का विचार नहीं कर सकता था।

तभी, उसने देखा के वहां कुछ कंकड़-पत्थर बिखरे हुए हैं। उसने बड़ी हिम्मत करके एक कंकड़ उठाया और उस घड़े में दाल दिया। फिर, एक और, वह इस प्रक्रिया को लगातार दोहराता रहा जब तक कि पानी एक स्तर तक नहीं बढ़ गया जिससे वह पानी को आसानी से पी सकता था। कौवा ने पानी पी लिया और खुश और संतुष्ट होकर उड़ गया!

Moral:

कठिन प्रयास करने वालों की हार नहीं होती।

JADU KI KAHANI राजकुमारी की शर्त और जादूगर जंजाल।

Dadi Maa ki Kahani दादी माँ की Best रोमांचक कहानी।

New moral stories in Hindi 2021 Top 10 moral stories in Hindi

Spread the love

Leave a Reply

%d bloggers like this: