Dadi Maa ki Kahani दादी माँ की Best रोमांचक कहानी। 2021

Dadi Maa ki Kahani दादी माँ की रोमांचक कहानी।

हेलो दोस्तों Dadi Maa ki Kahani मै आप सभी का बहुत स्वागत है। आज हम Dadi Maa ki Kahani ले कर आए है जो बहुत ही रोचक है। और आपको Dadi Maa ki Kahani ज़रूर पसंद आएगी।

Dadi Maa ki Kahani

गंगा किनारे एक भीकमपुर नाम का गॉव था। जहाँ एक बूढी औरत रहती थी। लोग उसे Dadi Maa कहते थे। गॉव मै ही Dadi Maa की एक टूटी फूटी कुटिया थी। उसकी कोई भी औलाद नहीं थी। पति को मरे ज़माना हो गया था। Dadi Maa पुरे गॉव की चहीती Dadi Maa थी। पुरे गॉव के बच्चे उनके पास आ कर खेलते थे और Dadi Maa बच्चों को कहानी भी सुनती थीं।

Dadi Maa ki Kahani

Dadi Maa गॉव के लोगों का कुछ काम कर देतीं जैसे बाजार से सब्ज़ी लाना, लोगों के छोटे बच्चों को खिलाना अदि। बदले मै लोग Dadi Maa को राशन या घर का पुराना सामान दे देतीं। और इसी तरह Dadi Maa का गुज़ारा चलता था।

एक दिन गॉव के प्रधान के घर एक बच्चे ने जनम लिया तो दादी माँ ने ख़ुशी मै खूब ढोल पीटा और गीत गाए, सारा दिन खुशियां मनाई जाती रहीं और दादी माँ उनमे शामिल रहीं। शाम को प्रधान ने थोड़ा दूध, चावल, और चीनी दे दी और कहा “दादी माँ ये ले जाओ और घर जा कर खीर बना कर खा लेना”

दादी माँ ख़ुशी से ये सामान ले कर आ गई और जंगल से कुछ लकड़ी भी तोड़ लाईं। और चूल्हे पर खीर बनाने रख दी। ये सब करते रात हो चुकी थी और दादी माँ भी थक गईं थीं। दादी माँ ने सोचा जब तक खीर बन रही है थोड़ा आराम ही कर लूँ और दादी माँ चूल्हे के करीब ही अपनी चारपाई दाल कर लेट गईं और थोड़ी ही देर मै उनकी आँख लग गई।

कुछ देर बाद चरों तरफ अँधेरा हो चूका था। चार चोर जो कई दिनों से दादी माँ के घर की चोरी का प्लान बना रहे थे आ गए। उन्होंने सोचा आज पूरा गॉव प्रधान के वहां नाच गा कर थक गया होगा मौका अच्छा है। दादी माँ का सारा सामान चोरी कर लेते हैं। और वो छिपते छिपाते दादी माँ के घर आ गए।

Dadi Maa ki Kahani

दादी माँ के घर आ कर उन्होंने सही और साबित चीज़ों को ढूंढ़ना शुरू कर दिया। वो जिस चीज़ को भी उठाते तो पता चलता वो टूटी हुई है और उसकी कोई भी कीमत नहीं है। कुछ देर बाद उन्होंने सारा घर छान मारा लेकिन उन्हें कुछ भी चोरी करने लायक नहीं मिला।

गुस्से मै आ कर एक चोर ने दूसरे चोर को ज़ोरदार थप्पड़ मारा और कहा “तूने तो कहा था बुढ़िया के घर मै बड़ा माल भरा हुआ है यहाँ तो कबाड़े के सिवा कुछ भी नहीं है।”

तप्पड़ खाया चोर कहने लगा “मुघे क्या पारा था ये सब टुटा हुआ है बहार से देखने से तो लगता था बड़ा माल है।”

थक हार कर चोर वापस जाने लगे तभी एक चोर की नज़र चूल्हे पर रखी हंडिया पर पड़ी उसने ढक्कन खोल कर देखा तो खीर बन कर तैयार हो चुकी थी। उसने ख़ुशी से कहा “मेरे चोर भाइयों खुड़िया के घर कुछ तो मिला चलो थोड़ी खीर ही खा लेरे है।”

चरों चोर चूल्हे के पास हो बैठ कर खीर खाने लगे, खीर बहुत ही गरम थी जिसे ठंडा करने के लिए वो पहले एक पलेट मै निकलते फिर पलेट को पानी मै रखते और ठंडा हो जाने पर खा लेते।

पास ही दादी माँ की चारपाई पड़ी थी जिसपर वो सो रहीं थी और अपना मुँह खोले खर्राटे ले रही थी। एक चोर उनके इन खर्राटों से परेशान हो रहा था उसने दुस्से मै एक चम्मच गरम खीर दादी माँ के मुँह मै दाल दी और कहा “ले बुढ़िया खीर खाने के लिए मरी जा रही है इतनी देर से खर्र खर्र कर रही है ले खा ले।”

गरम खीर से दादी माँ का मुँह जल गया और वो उठ गईं और चिल्लाने लगी “हए राम मार डालो, हए राम मार डालो।”

चरों चोर घबरा गए और उनमेसे एक चोर चारपाई के नीचे चिप गया, दो चोर पास के कोनों मै छिप गए, और और एक चोर ऊपर छजलि मै छिप कर बैठ गया।

दादी माँ तो रुकने का नाम ही नहीं ले रही थी वो लगा तार चिल्लाए जा रही थी “हए राम मार डालो, हए राम मार डालो।”

उनके चीखने की आवाज़ सुन तमाम गॉव वाले आ गए और पुछले लगे “दादी माँ क्या हुआ?”

दादी माँ ने जवाब दिया “में का जानू ऊपर वरो जाने।”

“तो फिर चिल्ला क्यों रही हो?” गॉव वालो ने पूछा

“काउ ने मेरो मोह जलाए दो है” दादी माँ ने जवाब दिया।

“किसने जलाया?” किसी ने सवाल किया।

“में का जानू ऊपर वरो जाने।” दादी माँ ने जवाब दिया

इतने मै छजलि पर बैठा चोर उतर कर आया और कहने लगा “वाह माई, सारी बात ऊपर वरो जाने ये जो एक चोर तुम्हारी खटिया के नीचे छिपा हुआ है ये ना जाने।”

खटिया के नीचे से निकला चोर कहने लगा “मेने तुझे खीर न खिलाई ये जो दो कोने मै छिपे हुए है ये जाने”

गॉव वालो ने चरों चोरो को पकड़ कर खूब पीटा। चरों चोरों ने वादा किया अब वो कभी चोरी नहीं करेंगे। इस वादे के बाद दादी माँ ने उन चोरो को गॉव वालो के चंगुल से छुड़वा दिया।

दोस्तों Dadi Maa ki Kahani आपको केसी लगी कमेंट मै ज़रूर लिखना?  धन्याबाद।

हमारे अन्य पोस्ट

बच्चों के लिए प्रेरक लघु कथाएं

बच्चों के लिए सबसे अच्छी प्रेरणादायक नैतिक कहानियां।

सफलता की अनूठी, अनसुनी कहानी।

Hindi Short Stories for Kids

Spread the love

Leave a Comment