Skip to content

Bhutiya Kahani Hindi-डरावनी कहानियां

Hello दोस्तों आज का हमारा पोस्ट Bhutiya Kahani Hindi-डरावनी कहानियां बहुत ही ख़ास होने वाला है। जो बिलकुल सत्य घटनाओं पर आधारित हैं।

Bhutiya Kahani Hindi-डरावनी कहानियां यूं तो बहुत रोमांचित होतीं है साथ ही साथ ही Bhutiya Kahani Hindi-डरावनी कहानियां हमें एहसास दिलातीं हैं के हमारे बीच कोई ऐसी भी शक्ति है जो समय समय पर अपने होने का एहसास दिलाती रहती है।

Bhutiya Kahani Hindi-डरावनी कहानियां

Bhutiya Kahani Hindi-डरावनी कहानियां

कुछ ऐसी ही सच्ची Bhutiya Kahani Hindi-डरावनी कहानियां ले कर आए है जो हमें सोचने पर मजबूर करेंगी “क्या हमारे बीच भुत, आत्मा, साया या जिन्न होते है” तो चले शुरू करते है Bhutiya Kahani Hindi-डरावनी कहानियां।

दिल दहला देने वाली डरावनी कहानियां।

NALE BA बेंगलोर की सच्ची घटना।

भारत एक किस्से कहानियों का देश है यहाँ हर एक प्रान्त मैं अलग अलग तरह की किस्से कहानियां आपको सुनने को मिल जाएंगी। जो सुनने मैं जितनी दिलचस्प और रहस्मई लगती है उतनी ही अविश्वसनीय भी होती हैं।

इन कहानियों का दुर्भाग्य ये है के इन्हें कभी सुबूतों और तर्कों की कमी की वजह से पूर्ण सहमति नहीं मिलती। और ये सिर्फ किस्से कहानियां ही बन कर रह जातीं हैं। कुछ लोग इन कहानिओं के सत्य होने पर संदेह करते हैं तो कुछ लोग इस पर भिश्वास दिखते हैं।

जहाँ ये कहानियां कुछ लोगों की आपबीती होतीं है वहीँ कुछ लोगों के लिए ये अफवाह होतीं हैं।

आज की कहानी भी कुछ ऐसी ही है ये कहानी जहाँ कुछ लोगों का दर्द है वही ये कहानी कुछ के लिए अफवाह या मनोरंजन का साधन है। इस कहानी का नाम है NALE BA

1990 के दशक मैं NALE BA (Bhutiya Kahani Hindi-डरावनी कहानियां) ने अपनी दहशत से बेंगलोर के कई हिस्से को थार थार कांपने पर मजबूर कर दिया था।

इस सच्ची घटना पर एक फिल्म भी बन चुकी है। वो कोन सी फिल्म थी जो इस सच्ची घटना पर आधारित थी हमें कमेंट करके ज़रूर बताएँ।

बेंगलोर के दो छोटे गाऊँ मलेश्वरम और राजा जी नगर से शुरू हुई ये कहानी जल्द ही पुरे कर्नाटक मैं फेल चुकी थी जिसपर बिश्वास करना मुश्किल था।

इस कहानी के अनुसार एक चुड़ैल रात के समय लोगों के घर का दरवाज़ा खटखटाती और घर के ही किसी सदस्य की आवाज़ मैं उन्हें पुकारती थी।

उस थुड़ैल की इस पुकार पर अगर कोई अपने घर का दरवाज़ा खोल देता तो उस इंसान की मोत हो जारी थी।

शुरू मैं गाऊँ के लोगों को इस बात पर बिश्वास नहीं हुआ लोगों ने सोचा ये कोई कहानी है और वहां हुई मौतों का पुलिस को भी कोई सुराग नहीं मिला और उस चुड़ैल की कई और घटनाओं की खबर आने लगीं तो गाऊँ के लोग दहशत मैं आ गए।

धीरे धीरे उस भयानक चुड़ैल का दर अपने पैर पसारने लगा और गाऊँ के लोगों को भिश्वास होने लगा के लगातार हो रहीं घटनाओं मैं किसी चुड़ैल का हाथ है।

इस चुड़ैल के शिकार की संख्या अब लगातार बढ़ने लड़ी थी और कई लोग अपनी जान गवा चुके थे। स्थानीय लोग और अखवार इस घटना की चर्चा करते ही दिखाई देते थे। और इससे बचने का कोई भी तरीके उनके पास नहीं था।

उन दोनों गाऊँ का हाल ये हो चूका था के सूर्यास्त के बाद लोग अपने अपने घरों मैं कैद हो जाते थे और कितना भी ज़रूरी काम हो घरों से बहार नहीं निकलते थे।

शाम होते ही गाऊँ की गलियां किसी बीराने मैं तब्दील हो जातीं थीं।

एक रात की बात है जब एक महिला अपने घर मैं सो रही थी तो उसके घर के दरवाज़े को किसी ने खटखटाया वो बहुत डर गई और आवाज़ लगाई “कोन है”?

बहार से उसके पति की आवाज़ आई तो उस औरत के खौफ का कोई ठिकाना नहीं रहा क्यों की उसका पति तो उसके साथ ही सोया हुआ था।

उसके पति की आवाज़ लगातार आ रही थी और दरवाज़ा खोलने को कहा जा रहा था और उसे कुछ समझ नहीं आया वो डरते हुए उठी और खिड़की से बहार देखा तो बहार कोई भी नहीं था।

वो डरते हुए वापस आ कर लेट गई कुछ देर बाद फिर दरवाज़ा खटखटाने की आवाज़ आई तो उसने डरते हुए कहा NALE BA

कन्नड़ मैं NALE BA शब्द का मतलब होता है कल आना। ये शब्द बोलते ही बहार से आवाज़ आना बंद हो गई।

अगली रात फिर से उस महिला के साथ ऐसा ही हुआ और NALE BA कहते ही एक बार फिर से आवाज़ आना बंद हो गई और उस चुड़ैल से बचने का ये नुक्सा प्रचलित हो गया।

और एक समय ऐसा भी आया जब बेंगलोर के लगभग हर घर मैं NALE BA शब्द लिखा हुआ नज़र आने लगा। उस भयानक चुड़ैल के हुए शिकार लोग शायद उस महिला जितने खुसनसीब नहीं थे।

अभी भी कुछ लोग थे जो इसे अफवाह ही मानते थे और NALE BA शब्द उन्होंने अपने घर के दरवाज़े पर नहीं लिखवाया था।

एक शख्स जिसका नाम नागेश था इस कहानी को कोरी अफवाह मानता था। और अपने परिवार के साथ मलेश्वरम मैं रहता था।

एक रात जब वो अपने घर मैं सो रहा था। तभी उसे लगा के उसकी माता उसे बहार से पुकार रहीं हैं। और दरवाज़ा खटखटा रहीं हैं।

वो उत्सुकता और जिज्ञासा के चलते उठे और दरवाज़ा खोलने के लिए चले तो उनकी पत्नी ने उन्हें रोक दिया और कहा “माँ जी तो तीन दिनों के लिए मामा जी के यहाँ गईं है और वो रात को नहीं आ सकतीं ये ज़रूर वो चुड़ैल होगी।”

नागेश ने हस्ते हुए जवाब दिया “तुम भी उन अफवाहिन पर यकीन करती हो। हो सकता है माँ किसी ज़रूरत के चलते वापस आ गईं हो वो बहार खड़ी है।” इतना कह कर नागेश ने दरवाज़ा खोल दिया।

लेकिन दरवाज़े पर उनकी माँ नहीं बल्कि वो चुड़ैल थी। जिसने नागेश पर एक वार किया और नागेश की मोत हो गई।

नागेश की ही तरह ऐसे बहुत से लोग थे जिन्होंने इस कहानी को अफवाह माना और अपनी जान गवा दी जिसकी ज़िम्मेदार वो भयानक चुड़ैल थी।

इस चुड़ैल से छुटकारा पाने के लिए लोग इस अजीब से नुक्से का प्रयोग करने लगे और अपने घर के दरवाज़े पर NALE BA शब्द लिखवाने लगे और जल्द ही पुरे बेंगलोर के हर घर पर ये शब्द लिखा नज़र आने लगा।

जिस घर के बहार ये शब्द लिखा होता था उनके घर पर कोई आवाज़ नहीं आती थी। NALE BA घटना इतनी फेमस हुई के इस पर एक फ़िल्म भी बन चुकी है।

दोस्तों आपको ये कहानी Bhutiya Kahani Hindi-डरावनी कहानियां कैसी लगी कमेंट मैं ज़रूर बताना।

Sheikh Chilli ki Kahani-शेखचिल्ली की स्टोरी

रियल लव स्टोरी इन हिंदी-स्कूल लव स्टोरी हिंदी

Spread the love

1 thought on “Bhutiya Kahani Hindi-डरावनी कहानियां 2022”

  1. Pingback: Facts About Human Body in Hindi-2022 - Motivational Stores in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.