Skip to content

Best Chanakya Quotes Hindi

Best Chanakya Quotes Hindi के इस पोस्ट मैं आप सभी का स्वागत है। आज हम बात करने वाले हैं चाणक्य के विचार के वारे मैं जो हमेशा से लोगों को सही रह दिखते आए हैं।

Best Chanakya Quotes Hindi

चाणक्य का संछिप्त परिचय।

Best Chanakya Quotes Hindi को शुरू करने से पहले इनके बारे मैं कुछ जान लेते हैं। बौद्ध धर्म के अनुसार 350 ईसा पूर्व में तक्षशिला के कुटिल नामक एक ब्राम्हण परिवार में इनका जन्म हुआ था।

कुछ महान जानकारों की माने तो कुटिल वंश में जन्म लेने के कारण चाणक्य नाम कौटिल्य पड़ा गया था।

जबकि कुछ विद्वानों के विचार अनुसार इनके उग्र और गंभीर स्वभाव के कारण इनको कौटिल्य के नाम से जाना गया।

जबकि जैन धर्म के अनुसार इस महान और विद्वान पंडित का जन्म स्थली मैसूर राज्य स्थित श्रवणबेलगोला में था। इनके पिता का नाम चाणक और माता का नाम चनेश्वरी था।

तक्षशिला विश्वविद्यालय में चाणक्य ने अपनी शिक्षा पूरी की थी और बाद में ये इसी विश्वविद्यालय में शिक्षक भी रहे।

उन्होंने अर्थशास्त्र, राजनीतिक शास्त्र, समाजशास्त्र, अर्थ नीति और कृषि इन सभी विषयों को बहुत ही गहन अध्ययन कर इन विषयों पर अपने विचारों को ग्रंथों के रूप में उल्लेखित किया।

इनकी मृत्यु 275 ईसा पूर्व पाटलिपुत्र (पटना) भारत में हुई थी।

चाणक्य मौर्य साम्राज्य के संस्थापक, राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ और प्रसिद्ध अर्थशास्त्री के रूप में विश्व विख्यात हुये।

चाणक्य बचपन से ही हमेशा सच के मार्ग पर चलने वाले, क्रोधी और जिद्दी स्वभाव के थे। वे अपने शिक्षक स्वयं थे उन्होंने अपने ही विचारों के आधार पर अपने सिद्धांतों और नीतियों की रचना की।

इन नीतियों का अध्ययन आप Best Chanakya Quotes Hindi के द्वारा कर सकते है। जो आपका जीवन सुधर सकतीं हैं।

इनके अनुसार वही व्यक्ति जीवन में असफल होता है जो अपने अवगुणों को छुपा लेता है। इसीलिए प्रत्येक व्यक्ति को अपने अवगुणों से घबराना नहीं चाहिए बल्कि उसको अपनी ताकत बनाना चाहिए।

Best Chanakya Quotes Hindi हमे यह प्रेरणा देते हैं कि जीवन में व्यक्ति की सुंदरता, भोजन और धन जितना भी पर्याप्त हो उतने में ही संतुष्ट रहना चाहिए।

इसके बारे में सोच कर अपने मन में असंतोष की भावना नहीं लानी चाहिए क्योंकि उनका मानना था कि जो व्यक्ति अपने जीवन से संतुष्ट है उसके लिए धरती ही स्वर्ग के समान है।

True Lines in Hindi

Aaj Ka Vichar in Hindi

चाणक्य के विचार

  • कोई काम शुरू करने से पहले, स्वयं से तीन प्रश्न कीजिये, मैं ये क्यों कर रहा हूँ, इसके परिणाम क्या हो सकते हैं, और क्या मैं सफल होऊंगा. और जब गहराई से सोचने पर, इन प्रश्नों के संतोषजनक उत्तर मिल जायें, तभी आगे बढिए।

 

  • इस बात को व्यक्त मत होने दीजिये कि आपने क्या करने के लिए सोचा है, बुद्धिमानी से इसे रहस्य बनाये रखिये और इस काम को करने के लिए दृढ रहिये।

 

  • सिर्फ पानी से नहाने वाला कभी सफल नहीं होता, पसीने से नहाने वाले ही दुनिया बदलते है।

 

  • व्यक्ति अकेले पैदा होता है और अकेले मर जाता है, और वो अपने अच्छे और बुरे कर्मों का फल खुद ही भुगतता है, और वह अकेले ही नर्क या स्वर्ग जाता है।

 

  • शिक्षा सबसे अच्छी मित्र है एक शिक्षित व्यक्ति हर जगह सम्मान पाता है शिक्षा सौंदर्य और यौवन को परास्त कर देती है।

 

  • कदम, कसम, और कलम हमेशा सोच समझकर ही उठाना चाहिए।

 

  • भगवान मूर्तियों में नहीं है, आपकी अनुभूति आपका ईश्वर है, आत्मा आपका मंदिर है।

 

  • जैसे ही भय आपके करीब आये, उस पर आक्रमण कर उसे नष्ट कर दीजिये।

 

  • किसी मूर्ख व्यक्ति के लिए किताबें उतनी ही उपयोगी हैं, जितना कि एक अंधे व्यक्ति के लिए आईना।

 

  • हाथी को अंकुश से, घोड़े को चाबुक से, सींग वाले पशुओं को डंडे से और दुर्जन व्यक्ति को तलवार से दंड देना चाहिए|

 

  • यदि हर सुबह नींद खुलते ही किसी लक्ष्य को लेकर आप उत्साहित नहीं है, तो आप जी नहीं रहे है, सिर्फ जीवन काट रहे है।

 

  • जब तक आपका शरीर स्वस्थ और नियंत्रण में है और मृत्यु दूर है, अपनी आत्मा को बचाने कि कोशिश कीजिये, जब मृत्यु सर पर आजायेगी तब आप क्या कर पाएंगे।

 

  • शक्तिशाली शत्रु और कमजोर मित्र हमेशा ही नुकसान देते हैं|

 

  • असंभव शब्द का प्रयोग तो केवल कायर करते हे बुद्धिमान और ज्ञानी व्यक्ति अपना रास्ता खुद बनाते है।

 

  • कोई व्यक्ति अपने कार्यों से महान होता है, अपने जन्म से नहीं।

 

  • धन का घमंड दो ही लोगो को होता है पहला जिसे खानदानी जायदाद मिली हो और दूसरा जिसने धोखे से पैसा कमाया हो।

 

  • सर्प, नृप, शेर, डंक मारने वाले ततैया, छोटे बच्चे, दूसरों के कुत्तों, और एक मूर्ख:, इन सातों को नीद से नहीं उठाना चाहिए।

 

  • जो लोग मिली हुई चीज को छोड़कर उस चीज के पीछे भागते हैं, जिसके मिलने की कोई उम्मीद ही ना हो, ऐसे लोग मिली हुई चीज को भी खो देते हैं।

 

  • जो तुम्हारी बात सुनते समय इधर उधर देखे उस पर कभी विश्वास न करो।

 

  • जिस प्रकार एक सूखे पेड़ को अगर आग लगा दी जाये, तो वह पूरा जंगल जला देता है, उसी प्रकार एक पापी पुत्र पुरे परिवार को बर्वाद कर देता है।

 

  • संस्कार दिए बिना सुविधाए देना पतन का कारण है।

 

  • सबसे बड़ा गुरु मन्त्र है, कभी भी अपने राज़ दूसरों को मत बताएं, ये आपको बर्वाद कर देगा।

 

  • जिस जगह झगड़ा हो रहा हो वहां पर कभी भी खड़े नहीं होना चाहिए कई बार ऐसे झगड़ों में बेगुनाह फस जाते हैं।

 

  • मर्यादा से बहार जा कर की गई मदद सदा ही कष्टों का कारण बनती है।

 

  • पहले पांच सालों में अपने बच्चे को बड़े प्यार से रखिये, अगले पांच साल उन्हें डांट-डपट के रखिये, जब वह सोलह साल का हो जाये तो उसके साथ, एक मित्र की तरह व्यवहार करिए, आपके वयस्क बच्चे ही आपके सबसे अच्छे मित्र हैं।

 

  • जैसे एक बछड़ा हज़ारो गायों के झुंड मे अपनी माँ के पीछे चलता है। उसी प्रकार आदमी के अच्छे और बुरे कर्म उसके पीछे चलते हैं।

 

  • फूलों की सुगंध केवल वायु की दिशा में फैलती है, लेकिन एक व्यक्ति की अच्छाई हर दिशा में फैलती है।

 

  • जो गुजर गया उसकी चिंता नहीं करनी चाहिए, ना ही भविष्य के बारे में चिंतिंत होना चाहिए। समझदार लोग केवल वर्तमान में ही जीते हैं।

 

  • हर मित्रता के पीछे कोई ना कोई स्वार्थ होता है, ऐसी कोई मित्रता नहीं जिसमे स्वार्थ ना हो, यह कड़वा सच है।

 

  • धर्म, गुरु का ज्ञान, दवाइयां आदि का सदा संग्रह करके रखना चाहिए, समय आने पर यह सब चीजें इंसान के काम आती है।

 

  • वेश्याएं निर्धनों के साथ नहीं रहतीं, नागरिक कमजोर संगठन का समर्थन नहीं करते, और पक्षी उस पेड़ पर घोंसला नहीं बनाते जिस पे फल ना हों।

 

  • सोना यदि किसी गंदी जगह पर भी पड़ा हो तो उसे उठा लेना चाहिए।

 

  • सांप के फन, मक्खी के मुख और बिच्छु के डंक में ही ज़हर होता है, पर दुष्ट व्यक्ति तो इस ज़हर से भरा होता है।

 

  • अपमानित हो के जीने से अच्छा मरना है, मृत्यु तो बस एक क्षण का दुःख देती है, लेकिन अपमान हर दिन जीवन में दुःख लाता है।

 

  • जब आप किसी काम की शुरुआत करें, तो असफलता से मत डरें और उस काम को ना छोड़ें, जो लोग ईमानदारी से काम करते हैं वो सबसे प्रसन्न होते हैं।

 

  • जो जिस कार्ये में कुशल हो उसे उसी कार्ये में लगना चाहिए।

 

  • सेवक को तब परखें जब वह काम ना कर रहा हो, रिश्तेदार को किसी कठिनाई में मित्र को संकट में और पत्नी को घोर विपत्ति में।

 

  • संतुलित दिमाग जैसी कोई सादगी नहीं है, संतोष जैसा कोई सुख नहीं है, लोभ जैसी कोई बीमारी नहीं है और दया जैसा कोई पुण्य नहीं है।

 

  • शिक्षा, यदि किसी घटिया प्राणी से भी मिले तो लेने में संकोच नहीं करना चाहिए।

 

  • यदि किसी का स्वभाव अच्छा है तो उसे किसी और गुण की क्या जरूरत है, यदि आदमी के पास प्रसिद्धि है तो भला उसे और किसी श्रृंगार की क्या आवश्यकता है।

 

  • यदि किसी दुष्ट वंश में बुद्धिमान कन्या हो तो उससे शादी कर लेनी चाहिए, गुण ही सबसे बड़ी विशेषता है।

 

  • हे बुद्धिमान लोगों! अपना धन उन्ही को दो जो उसके योग्य हों और किसी को नहीं, बादलों के द्वारा लिया गया समुद्र का जल हमेशा मीठा होता है।

 

  • वो जिसका ज्ञान बस किताबों तक सीमित है और जिसका धन दूसरों के कब्ज़े मैं है, वो ज़रुरत पड़ने पर ना अपना ज्ञान प्रयोग कर सकता है ना धन।

 

  • एक अनपढ़ व्यक्ति का जीवन उसी तरह से बेकार है, जैसे की कुत्ते की पूँछ, जो ना उसके पीछे का भाग ढकती है, ना ही उसे कीड़े-मकौडों के डंक से बचाती है।

 

  • एक उत्कृष्ट बात जो शेर से सीखी जा सकती है, वो ये है कि व्यक्ति जो कुछ भी करना चाहता है, उसे पूरे दिल और ज़ोरदार प्रयास के साथ करे।

 

  • एक राजा की ताकत उसकी शक्तिशाली भुजाओं में होती है, ब्राह्मण की ताकत उसके आध्यात्मिक ज्ञान में और एक औरत की ताक़त उसकी खूबसूरती, यौवन और मधुर वाणी में होती है।

 

  • ये मत सोचो की प्यार और लगाव एक ही चीज है। दोनों एक दूसरे के दुश्मन हैं। ये लगाव ही है जो प्यार को खत्म कर देता है।

 

  • दौलत, दोस्त ,पत्नी और राज्य दोबारा हासिल किये जा सकते हैं, लेकिन ये शरीर दोबारा हासिल नहीं किया जा सकता।

 

  • जिस आदमी से हमें काम लेना है, उससे हमें वही बात करनी चाहिए जो उसे अच्छी लगे, जैसे एक शिकारी हिरन का शिकार करने से पहले मधुर आवाज़ में गाता है।

 

  • राजनीति का संबंध केवल अपने राज्य को, समृद्धि प्रदान करने वाले मामलों से होता है।

तो दोस्तों Best Chanakya Quotes Hindi कैसा लगा कमेंट मैं हमें ज़रूर बताएं और अपने दोस्तों को शेयर करना न भूलें धन्यवाद।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.